ख़ामोशी बातों में

ख़ामोशी बातों में, समंदर आँखों मेंमुस्कान लबों पे, जवाकुसुम बालों मेंऔर मोगरे का इत्र लगाकर,जब तुम नज़दीक से गुज़रती हो, तो मानो रुक सा जाता हूँ मैं तुम्हारी चंचलता, तुम्हारी सहजतातुम्हारा प्रतिबिम्ब, अमिट छाप छोड़ता है मुझपेवो माथे की बिंदी, वो जुड़वां काले नयनावो लहराता दुपट्टा, सम्मोहित करता है मुझे उस दिन तुम्हे जाते हुए,Continue reading “ख़ामोशी बातों में”