Third position in Hindi poetry competition@kalamanthan

So elated to stand third in the KalaManthan weekly Hindi poetry competition 😍🙏

The theme was ′′ Zindagi Sapnon Ka Bazar ′′


Here’s my entry:-

Title- ज़िन्दगी सपनों का बाज़ार है

ज़िन्दगी सपनों का बाज़ार है ,मैं रोज़ खरीदारी करती हूँ
एक आस खरीदती हूँ, एक सपना उधार लेती हूँ
मोलमोलाई भी करती हूँ, दाम का तकाज़ा करती हूँ
मुफलिसी के दिनों में, हाथ बाँध कर चलती हूँ

ज़्यादा महंगे सपनों को, किश्तों में खरीदती हूँ
देख सुन कर, अलट पलट कर, बेहतरीन सपना चुनती हूँ
ख्वाइशों के तराज़ू में, सपनों का तौल करती हूँ
फिर लपक कर उसे ज़िन्दगी की झोली में डाल लेती हूँ

फुटकर सपने भी खरीदे जाते हैं, रोज़ की आपाधापी में
बढ़िया चमकीले सपनों की लूट है, त्यहवारों की छूट में
बाज़ारों में रौनक है, मेरी गुल्लक भी भरी हुई है
आज सपरिवार निकली हूँ, खरीदारी करने बाज़ार में।

Thank you for reading!!

Published by Daisy

I write whenever ideas crunch and overwhelme me! It's my reaction outpour.

5 thoughts on “Third position in Hindi poetry competition@kalamanthan

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: